Powered by Blogger.

साँप भी अब हुए शाकाहारी !

समय के साथ २ इंसान का झुकाव जोर शोर से शाकाहार की और हो रहा है ! ऐसे में नागराज कैसे पीछे रह सकते हैं  ?  नीचे की तस्वीरे देख कर तो ऐसा ही लग रहा है की नागराज ने भी अब चूहे और मेंढक खाना छोड़ कर शाकाहार अपना लिया है ! आराम से गोभी के फूल में बैठ कर गोभी भक्षण कर रहे हैं !  आपको शायद अचरज लग रहा होगा,  पर तस्वीर पर चटका लगा कर ख़ुद देख लीजिये ! जय हो शाकाहार की ! 


 
 

22 comments:

  1. क्या बात है हम ओर आप आज लगभग एक साथ अपने कोम्पुटर पर आये.पिछले दो दिन की छुट्टी के बाद ताऊ के दर्शन ....राम राम ताऊ

    ReplyDelete
  2. अल्लाह कमाल है अरे वल्लाह कमाल है . ताऊ कमाल है अरे साँप भी कमाल है . कमाल है कि कुछ गोलमाल है ?

    ReplyDelete
  3. लगता है नाग देवता मांसाहार से उकता गए

    ReplyDelete
  4. "साँप भी अब हुए शाकाहारी" ...रे ताऊ ये घणी जोर की बात हुई...साँप भी हमारी बिरादरी में आ गए और हमें बेरा भी न पाटटा...जोर की ख़बर दी आपने.
    नीरज

    ReplyDelete
  5. ताऊ ने करवाया ताई और भैंस का बीमा…shaandaar post thii...:)

    ReplyDelete
  6. oodi baba! saanp bhi shakhahari ho liye.. ye to sirf taooname mein hi ho sakta hai..

    ReplyDelete
  7. सांप को सब्ज़ी का भाव बता देते। वापस चूहे-मेंढक खाने लगता।:-)

    ReplyDelete
  8. इच्छाधारी सांप के बारे में सुना था। आपकी कृपा से शाकाहारी/शाकविचरी सांप के बारे में पता चल गया।
    सांप चाहे जो खाये; बस काटे मत!

    ReplyDelete
  9. सांप के शाकाहार की
    जय ताई के प्यार की

    जिब ब्याह के बाद ताऊ शाकाहारी होग्या तो सांप की के औकात
    मेरे खयाल तै यू ब्याहा होया सांप सै
    यें मेंढकी
    यें चुहिया
    ब्याह तै पहलम ही चोक्खी लाग्गै

    ReplyDelete
  10. ये सही किया सांप ने. पर ताऊ ये तो बताओ की चिट्ठे से हरयान्वी क्यूट गर्ल की फोटो कहाँ गायब हो गई, ताई ने लट्ठ मार दिया क्या :D

    ReplyDelete
  11. अरे ताऊ सब सौंप नागराज नहीं होते -यह बेचारा सीधा सादा सा विषहीन साँप है -शायद धामन .गोभी के फूल पत्तों में बिचारा डरकर छुपा था -मरता क्या न करता सब्जीवाले के ठेले से वभाग निकला -और हाँ सापो पर लवली जी का पेटेंट है -सर्वाधिकार ! बिना उनकी अनुमति के आप ने क्या इसे प्रकाशित किया है -बोले तो भारतीय भुजंग से अनुमति ली है ?

    ReplyDelete
  12. मन्‍नै तै यो इच्‍छाधारी लट्ठ लाग्‍गै सै,जो ताऊ तै घबराके नाग का भेस धर्या, पर गोब्‍भी में क्‍यूँ जा छि‍प्‍या, बेरा ना पाट्या! गोब्‍भी का साग ताई घणा बनावै सै के?

    ReplyDelete
  13. अच्छा ऐसा होने लगा है क्या।
    और सर जी घुग्घी की फोटो हो तो भेज दे जरा। जो गाँव में दोपहर में बोलती है। उसकी आवाज सुनने को मन करता है पता नही क्यों।

    ReplyDelete
  14. ताऊ राम राम जी की,यह सांप सब्जिया क्यो खाता है ताऊ शायद इसे पता चल गया कि मांस खाने से आदमी ज्यादा बीमार होता है
    चलिये हमारा एक साथी ओर बढ गया, शाका हारी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. लगता है साँप भी कैलरी कान्शश हो रहे है !!हा हा हा हा

    ReplyDelete
  16. अच्छी ख़ुशी की खबर है हम जैसे शाकाहारियों के लिए...अब नाग देवता को मेनका गाँधी जी के साथ काम पर लगाये देते हैं.

    ReplyDelete
  17. सौंप 'भी' हुए? आपको क्या लगता है आदमी भी हो जायेंगे? अरे इस साँप को भी नहीं छोडेंगे :-)

    ReplyDelete
  18. ताउ म्‍हारा के ढूंढ लावे और सबेरे-सबेरे म्‍हारा बनावे है। उ बेचारा तो जाण बचाके बैठा और म्‍हारा ताउ उसपे गोभ्‍भी खाने का इल्‍जाम लगा रिया है।

    ReplyDelete
  19. चलो कोई प्राणी तो आगे आए इंसानों से रोल-बदली करने!

    ReplyDelete
  20. अद्भुत,ताऊ जो करे अद्भुत करे।

    ReplyDelete
  21. अरविन्द जी हर जगह खिंचाई करते रहते हैं..सुंदर फोटो यह तो पक्का पता है, खा तो नही ही रहा होगा

    ReplyDelete
  22. 'ab bechara kya kre, mehngaee ka jmana hai...........abhee to bechara ghobee kha rha hai, kuch time ke baad shayad grass bhee khayega, papee pait ka sval hai na..."

    regards

    ReplyDelete