Powered by Blogger.

मैं शादी नही करता, हो जाती है

यकीन कीजिये ताऊ ने कुछ नही किया है ! चटका लगाइए और पढ़ लीजिये !

18 comments:

  1. sahi baat hai Tau jee,jabhi to meri ek bhi nahi hui,saare dost,rishtedaar kehte hai karle-karle,main kehta hun karte nahi hoti hai,ab sab ko bataunga dekho Tau jee kya padha rahe hain

    ReplyDelete
  2. ताऊ कहीं ये अबू बाकर साहब आप ही तो
    नही हो :) :) इतने कारनामे कर चुके हो की
    शक होता है ?

    ReplyDelete
  3. अल्लाह भी पक्षपात करता है जी.....

    ReplyDelete
  4. इसे बढकर मुंह से बस एक ही शब्द निकलता है-
    गजब।

    ReplyDelete
  5. अब इसमे भी क्या पढने कि ख़बर है.... लगे रहे...

    ReplyDelete
  6. अल्लाह की कृपा है कि यह साहब चीन में नहीं पैदा हुए वरना माओ देव की दया से इनके साथ १९७६-कृत्य १६९ बार हो गया होता.

    ReplyDelete
  7. ताऊ मेरे को तो शक लग रही हे, भाई ने जरुर मेरे जेसे बन्दे ओवर टाईम पे रखे होगे, बिना तन्खा:)

    ReplyDelete
  8. इतनी शादियों के बाद भी बन्दा हंस रहा है...कमाल है...गालिब साहेब ने शायद इसी के लिए कहा होगा
    " दर्द का हद से गुजरना है दवा हो जाना"
    नीरज

    ReplyDelete
  9. अर ताऊ यो डाकी के कर रया सै ? भई
    हम तो एक धोरै गंगाजल मान्गण लाग रे
    सें ! और यो डाकी पुरे ही मजे लेण लाग रया सै !
    इसनै तो म्हारै परणाम ! और परणाम ही के
    लंबा लेट कै पाँव पकडै इसकै ! भई यो गुरु-मंतर
    हमनै भी सिखा दे ! :)

    ReplyDelete
  10. इस पोस्ट से आप क्या जुटाना चाहते हैं ?
    समर्थन...!
    ऒह.......
    के इरादा सै..?
    ताई कित सै..?

    बाकि
    एक बात तो सै ताऊ..
    इलाज तो इसे-इसे इंडिया म्हं भी हौवें..
    पर फीस खात्तर साब्बत मुसीबत गल म्हं घाल्लण का रिवाज़ कोनी..
    हम तो घंटे दो घंटे पाच्छै वापस भेज दिया करैं..
    tasalli gail

    ReplyDelete
  11. हरियाणवी को हिन्दी में लिखना आसान कार्य नही है, आप का लेखन लीक से हट कर है और उत्कृष्ट है ! आप अपनी मौलिकता को लेकर ही चलते रहें एक दिन आपकी यही विशेषता का मज़ा लेने हर लेखक आपको पढ़ना चाहेगा ! आज जब लोग एक दूसरे की टांग अधिक खींचते है, उस समय आप लोगों को हंसा पा रहे हैं यह आपकी ही हिम्मत है ! हरियाणवी अधिक न समझाने वाले मेरे जैसे आपके मित्र भी अब हरियाणवी सीखने का प्रयत्न आपको पढ़ कर कर रहे हैं ! ताऊ आपको सादर प्रणाम !
    "लाइट ले यार" में आपका लिंक देकर अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ !

    ReplyDelete
  12. योगेन्द्र जी की बातों से मैं सहमत हूँ...
    आप क्या बताना चाहते हैं??? हमारे हिन्दुस्तानी मर्दों को बिगाड़ रहे हैं?? ताईजी से कहना होगा... अब अखबार बंद करा दो...

    ReplyDelete
  13. अंकल मेरी तो एक भी शादी नही हुई अभी
    तक और ये बाबा कौनसा जादू करते हैं ? इनका
    नाम पता हमको भी भिजवावो ना !

    ReplyDelete
  14. अंकल मेरी तो एक भी शादी नही हुई अभी
    तक और ये बाबा कौनसा जादू करते हैं ? इनका
    नाम पता हमको भी भिजवावो ना !

    ReplyDelete
  15. ताऊ इस पोस्ट को पढ़कर एक शेर याद आ गया :

    इस दुनिया में आए हो तो , कुछ ऐसा कर जाओ कद्रदान,
    जिस गली से गुजरो, आवाज़ आए अब्बाजान....अब्बाजान|

    ReplyDelete