Powered by Blogger.

ताई, छोरी और ट्रेफिक हवलदार

ताऊ का शहर के अस्पताल मे आपरेशन हुया था ! सो ताई
को शहर जाणा था ! सो ताई चढ ली शहर जाण आली बस मै !
बस मै घणी ठाडी भीड हो री थी ! बैठण की जगह कितै भी नही थी !
आगे आगे की सब सीटों पै कालेज जाण आले छोरे बैठे थे !
ताई को अनदेखी सी करके सारे छोरे सीटों पै जमे ही रहे !
कोई भी ना उठया ! ताई नै थोडी देर तो इन्तजार किया फिर
वहीं बस के बोनट पर बैठ गई !
थोडी देर बाद दो तीन कालेज जाण आली छोरियां अगले स्टाप
से बस मै चढी ! उन छोरीयां के चढते ही बैठे हुये लडकों ने
उनके लिये सीट खाली कर दी और अपनी सीटों पर उन छोरियों
को बैठा लिया और खुद खडे हो लिये ! ये देख कर ताई को
किम्मै छोह (गुस्सा) सा आगया ! ताई उन लडकों से तो किम्मै
ना बोली पर उन छोरियां तैं बोली - इतना इतराणै (गुरुर) क्युं
लाग री हो ? आज नही तै कल थमनै भी इसी बोनट पै आणा सै !


शहर पहुंच कै ताई बस तै उतर ली और अस्पताल की तरफ़ चाल
पडी ! रास्ते मै चोराहा पार करणा था सो ताई नै लाल पीली
लाइट का किम्मै बेरा था नही सो वो तो चाल पडी मूंह ठा के !
लाल लाइट मै चोराहा पार करते देख कै, ट्रेफ़िक होलदार सीटी
मारण लाग ग्या ! पर ताई तो सीधी ही चाली जावै थी ! फ़िर
दोड कै होलदार साब नै ताई को रोका !
और बोला- क्युं ताई मरण का सोच कै आई सै के ?
ताई- अरे बेटा मैं क्युं मरण लागी ! तैं ढंग सै नही बोल सकदा के ?
या तनै बात करण की तमीज नही सिखाई तेरे घर आला नै ?
होलदार-- ताई मैं इतनी देर तैं सीटी मारण लाग रया सूं अर तैं तो
रुकदी ही नही ?
ताई बोली-- अरे तेरी के अक्ल खराब हो राखी सै ?
इब मेरी या उम्र के तन्नै सीटी पर रुकण की दिखै सै ?
अपनै जमानै मै तो मै एक सीटी पर ही रुक जाया करै थी !
और छोह मै आके ताई नै होलदार के दो कान तले बजा दिये !

12 comments:

  1. के बात सै ? आज तो ताई नै भी शामिल कर ली सै !
    घना मजा आया !

    ReplyDelete
  2. अरे मेरे यार रुक्के | तैं समझदा कोनी यार ! ताऊ का तो आपरेशन हो राख्या सै !
    तो इब्बी ताई इक्कल्ली सै ! क्यूं ताऊ सांची सै ना ?

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ! बस में ताई बोनट पे बैठ कर चली गई ! और शहर में हवालदार के कान तले बजा दिए ! बस मे छोरियां नै ताई के साथ जो बदतमीजी करी उसका गुस्सा ताई नै हवलदार पर उतार दिया !
    वाह ताई वाह !

    ReplyDelete
  4. बहुत धाकड़ दिखती है आपकी ताई तो ?

    ReplyDelete
  5. इसको कहते हैं शेर पे सवा शेर ! ताई नै तो
    ताउ को भी दुर बैठा दिया ! लो बोलो और
    कुछ नही तो अपनी खीज हवलदार पर ही उतार दी !
    बहुत अच्छे ताईजी !

    ReplyDelete
  6. भई यु तायी तॆ घणी ढढी दीखे, ताऊ ते भी दो कदम आगे सॆ हमारी ताई

    ReplyDelete
  7. ताऊ नंबर एक तो,ताई करें कमाल
    लाल-लाल हैं हो गए,हवलदार के गाल
    हवलदार के गाल,सोचती तीनों छोरी
    ताई का अंदाज,करें हम कैसे चोरी

    ReplyDelete
  8. एक दूसरे को देख कर रोते हुए लोगों को, हँसाने का प्रयत्न कर रहें हैं आप ! वास्तविक बधाई के पात्र हैं आप ! एक सुझाव....( हर एक व्यक्ति मुफ्त में बिना मांगे सुझाव देता है इसीलिए मैं भी ..)
    आप अपने ब्लाग पर, अलग तरह के ब्लाग्स की लिस्ट दें !
    बुरा नही मानियेगा...

    ReplyDelete
  9. बेचारा हवालदार तो धन्य हो गया ताई का चनकट खा के.

    ReplyDelete
  10. ताऊ धाँसू और ताई सै जाबड़.

    ReplyDelete