Powered by Blogger.

महामहिम की फटकार


हरियाने का आदमी जब भी कुछ बोलता है तो ये लगता है की पत्थर मार रहा है ! पर ये हवा पानी का ही असर है ! हमारे महामहिम श्री बलराम जी झाखड साहब मोजुदा दौर के उन राजनीतिज्ञों में से हैं जो बहुत ही सुसंस्कृत और विद्वान् हैं ! और शायद ये कम ही लोगों को पता होगा की महामहिम संस्कृत के प्रकांड विद्वान् हैं ! इनके बोलने के अंदाज से आप ये मत समझ लेना की ये रूखे सूखे हैं ! इनके बराबरी का कोई राजनीतिज्ञ मुझे दिखाई नही देता जो इतना प्रकांड विद्वान् और सरल आदमी हो ! मैं तो इनके स्वभाव से बहुत पुराने जमाने से परिचित हूँ ! अपनी और से इन्होने नौकरशाही को सुधारने की बड़ी कोशिशें की हैं ! और इनका अंदाजे बयाँ देख कर आप भी दाद देंगे की आज भी कोई तो है, जो किसी से डरता नही ! और ऎसी बातें सिर्फ़ वही बोल सकता है जिसका ख़ुद का दामन पाक साफ़ हो !

कृपया
इमेज पर चटका लगा कर आज के अखबार की ख़बर पढ़े !

और
हाँ , याद आया की एक बार हरियाने के मंत्री जी ने ये हुक्म निकाल दिया की सब सरकारी कर्मचारी जनता से बात करते समय कृपया शब्द का प्रयोग अवश्य करे ! और नम्रता से व्यवहार करे ! अब एक बस कंडक्टर की भाषा और नम्रता देखिये ! अगर ये नम्रता है तो .....?
बस मे ज्यादा भीड़ हो रही थी और कुछ सवारियां दरवाजे के बाहर लटक रही थी ! कंडक्टर नै आके जोर से आवाज लगाई -- कृपया भीतर नै आके मर ल्यो ! नही तो बाहर ही टपक के मर ल्योगे !

5 comments:

  1. आश्चर्य भरी खुशी हुई कि आज के राजनीतिज्ञों में भी ऐसे लोग मौजूद हैं जो खुदा की लाठी में यकीन रखते हैं.

    ReplyDelete
  2. पढ़कर आश्चर्य भरी खुशी हुई कि आज के राजनीतिज्ञों में भी ऐसे लोग हैं जिन्हें खुदा की लाठी में यकीन है.

    ReplyDelete
  3. बलराम जाखड़ जी के ज्ञान का आभास ही और मुलाकात भी.

    वाकया मजेदार सुनाया.

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. ताउ यो ही तो हरयाणा का पानी सै !
    पर भैंस के आगे चाहे बीन बजाओ या डंडे मारो ,
    भैंस को कोई फर्क ना पडता !

    ReplyDelete