Powered by Blogger.

ताई धाफली और कालेज का छोरा

एक बार ताई धाफली घन्ना सारा सामान लेकर बस मे चढ़ गयी । और गोदी मे छोटा सा बालक भी ठा राख्या था। बस मे भीड़ बहुत ज्यादा हो रही थी। और ताई धाफली ने सीट मीली कोनी। एक सीधा सा कॉलेज का छोरा भी खड़ा था , ताई के पास ही। ताई उस तैं बोली बेटा मेरा यो झोला पकड़ ले जरा, छोरे ने पकड़ लिया । थोड़ी देर बाद दूसरा फ़िर तीसरा , इस तरियों ताई ने उस बिचारे छोरे को पुरा लाद दिया। और गोदी का बालक भी उसी को पकड़ा दिया । इब ताई को सीट मिल गयी। इब ताई उस छोरे तैं बोली ...बेटा तू तो भोत सुथरा बालक से तेरा नाम के से ? छोरा बोल्या - मेरा नाम से खूंटी, और कुछ टांगना सै तो टांग ले ।

0 comments:

Post a Comment